कालसर्पदोष पूजा त...

 त्र्यंबकेश्वर क्षेत्र में स्थित ताम्रपत्रधारी गुरुजी के निवास स्थान पर कालसर्प दोष पूजा की जाती है। कालसर्प दोष योग पूजा त्र्यंबकेश्वर में की जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण पूजाओं में से एक है।

राहु और केतु के एक भाग में अन्य सभी ग्रह हों तो कालसर्प नामक योग

 इस योग से जन्म लेने वाला व्यक्ति धन-धान्य और संतान होने पर भी दुखी होता है।

जन्म कुंडली में कालसर्प योग वाले व्यक्ति को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, जिनसे छुटकारा पाने के लिए इस योग से ठीक से शांति बनाना आवश्यक है।

त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प दोष पूजा करने के लाभ

नौकरी में प्रतिष्ठा और पदोन्नति है।

व्यापार के स्थान पर आर्थिक लाभ के योग हैं।

पति-पत्नी के बीच एकता का निर्माण होता है।

 गुरु के मार्गदर्शन में इस अनुष्ठान को करने से अधिक लाभ होता है, 

https://www.purohitsangh.org/hindi/

  0 Votes    0 Comments   Share   Add Bookmark

Comments

Please login or register to comment

Featured